Paron ko Khol Zamana Udaan Dekhta hai – An exclusive interview with Mazhar Imam (RAS)

Congratulations Mazhar Imam RAS Officer BDO Behted Sawai Madhopurमजहर इमाम ने 2006 में सीनियर टीचर की नौकरी हासिल की और आर.ए.एस परीक्षा 2010 में 129वीं रैंक हासिल कर के 2011 में राजस्थान ग्रामीण विकास विभाग में नियुक्त हुवे और अभी ब्लॉक डेवलपमेंट ऑफिसर की हैसियत से नैनवा, बूंदी में हैं काम कर रहे हैं |

पेश है खैलदार अंजुमन टीम की जानिब से लिया गया इंटरव्यू

खै.अ. : अस्सलामु अलैकुम, सबसे पहले मैं खैलदार अंजुमन की जानिब से आपको मुबारकबाद देता हूँ| अल्लाह आपको दुनिया व आखिरत में कामयाबी अता फरमाए |
म.इ : वआलय्कुम अस्सलाम | बहुत शुक्रिया | आमीन

खै.अ : आप अपने और अपने परिवार के बारे में बताइए ?
म.इ : मेरी पैदाइश 15 अगस्त 1981 को जिला सवाई माधोपुर के गाँव बहतेड में हुई. मेरे वालिदे मोहतरम जनाब अबरार अहमद साहब राजस्थान प्रशासनिक सेवा में सीनियर ऑफिसर हैं, वोह हाफ़िज़ ए क़ुरान और शायर भी हैं | मेरी वालिदा दीनी तालीम याफ्ता घरेलू खातून हैं | मेरी पत्नी हिंदी साहित्य में पोस्ट ग्रेजुएट है | एक भाई टीचर है, दूसरा भाई प्रतियोगी परीक्षाओं की तय्यारी कर रहे हैं और बहिन एल.एल.बी. की स्टूडेंट हैं|

खै.अ : आपका एजुकेशन बैकग्राउंड क्या रहा ?
म.इ : मैंने इंग्लिश और हिस्ट्री में बी.ए., बी.ऐड और एम.ए किया है |

खै.अ : आपने करियर के लिए सरकारी नौकरी का चुनाव क्यों किया?
म.इ : मेरे वालिद साहब के सरकारी महकमे में होने की वजह से मेरा भी शुरू से ही इस तरफ रुझान रहा, जब समझने लगा तो पाया की सरकारी महकमे (ख़ास तौर पर प्रशासनिक सेवाओं) में रहकर आप ना सिर्फ अवाम से जुड़ सकते हैं बल्कि मुख्तलिफ ओहदों पर रहते हुवे उनकी तकलीफों / परेशानियों को दूर कर सकते हैं |

खै.अ : अगर आप आर.ए.एस नहीं बनते तो किस फील्ड में आगे बढ़ने का मंसूबा था?
म.इ : मैं पहले ही शिक्षा विभाग में टीचर था, आर.ए.एस में कामयाबी ना मिलने पर शिक्षा के फील्ड में ही आगे बढ़ने की कोशिश करता |

खै.अ : वर्तमान पीढ़ी को प्रशासनिक सेवाओं में करियर बनाने की कोशिश करना चाहिए या नहीं?
म.इ : आजकल प्रशासनिक सेवाओं की नौकरी हासिल करना बहुत ही मुश्किल हो गया है साथ ही साथ ये बहुत ही चुनोतिपूर्ण ज़िम्मेदारी भी है , लेकिन वक़्त का तकाज़ा यह है की हमारे नौजवानों को मुल्क के उस सिस्टम में ज़रूर शामिल होना चाहिए जो पॉलिसीज़ बनाते हैं और लागू करते हैं |

खै.अ : आपकी जिंदगी का सबसे बेहतरीन लम्हा क्या था ?
म.इ : मेरी जिंदगी का सबसे बेहतरीन लम्हा वो था जब आर.ए.एस का रिजल्ट आया और मैंने राजस्थान में 129 वीं रैंक हासिल की क्यूंकि मैं इसके लिए बरसों से कोशिश कर रहा था |

खै.अ : नौजवानों को क्या पैगाम देना चाहेंगे ?
म.इ : नौजवानों से मैं यही कहूँगा की अल्लाह की ज़ात से मायूस न हों, अपनी पोशीदा सलाहियतों को बेदार कर के मुसलसल आगे बढ़ने की कोशिश करते रहें… इंशाअल्लाह कामयाबी ज़रूर हासिल होगी |

परों को खोल ज़माना उड़ान देखता है.. ज़मीन पे बैठ के क्या आसमान देखता है..

खै.अ : खैलदार अंजुमन डॉट कॉम के बारे में आप क्या कहना चाहेंगे?
म.इ : खैलदार अंजुमन डॉट कॉम नौजवानों को एक प्लेटफ़ॉर्म पर लाने की बेहतरीन कोशिश है | और यह इंशाअल्लाह हमें एक दुसरे के नज़दीक लाने और एक दुसरे के ख़यालात से फायदा उठा कर तामीरी कामों को बढ़ावा देने में कामयाब होगी |

(Courtesy : Team Khaildar Anjuman)

7 thoughts on “Paron ko Khol Zamana Udaan Dekhta hai – An exclusive interview with Mazhar Imam (RAS)

  1. Majahar Bhai Apko bahut mubarkbad.

    or allah se dua karte hai ki aap apni mahnat se next RAS & IAS exam me or achhi Rank hasil kar Pahle IAS bankar dikhayenge.

    or Khaildar Anjuman or iski team ki isi tarah hosla afjai karte rahenge.

    Me allah se aapki or kamyabi ki dua karta hun.. ameen

  2. Majahr sb, mubarak ho….yeh faqr ki baat he ki aap RAS officer he or allah aapko jaldi hi IAS banaye…
    mera bhi RAS main ka exam he , I will need guideline for RAS Main EXAm and interview. can you share you mo. No.

    Aejaj khan
    from kota( Akodia.sangod)

  3. Janab Apko bahut mubarkbad,

    Hum aise muslim nojawano par proud karte he or inke jaise kayi mazhar duniya me paida ho or duniya me name roshan kare…. Summa Aameen.

Leave a Reply to Mirza Cancel reply